पीरियड्स क्या है? क्यो, कब व कैसे होते है?

periods in hindi

Periods in Hindi: इस लेख मे आपको Periods के बारे मे जानकारी मिलेंगी। पीरियड्स क्या है? क्यो होते है? कब और कैसे होते है? इस विषय पर आप इस लेख मे विस्तार से जान सकते है।

पीरियड्स क्या है? – What is Periods in Hindi

Periods महिलाओं में होने वाली एक प्राकृतिक क्रिया हैं, जिसमें एक समय की अवधि के आधार पर महिलाओं की योनि से रक्त स्त्रावित होता हैं। जिसकी मात्रा महिला की शारीरिक स्थिति पर निर्भर करती हैं।

पीरियड्स को हिन्दी मे मासिक धर्म कहा जाता है, जो औसतन 28 दिनो के चक्र पर चलता है। इन 28 दिनो के मध्य मे 3 से 5 दिनो तक ब्लीडिंग होती है। पीरियड्स आना यह दर्शाता है, कि महिला अब प्रजनन कर सकती है।

पीरियड्स क्यों होते हैं? – Why Periods happen in Hindi

आमतौर पर 10 से 15 वर्ष की आयु में लड़कियो में हार्मोन के बदलाव के बाद पीरियड्स होना शुरू हो जाते हैं। पीरियड्स का होना बहुत अहम होता हैं, क्योंकि यह महिलाओं के गर्भ को शिशु के लिए तैयार करता हैं।

हर मासिक धर्म चक्र मे 1 अंडाशय शरीर से बहार आता है, इस प्रक्रिया को ओवूलेशन (Ovulation) कहते है,

जिन महिलाओं में पीरियड्स नहीं होते हैं, वो कभी माँ नहीं बन सकती।

पीरियड्स में क्या होता हैं? – What happen in periods in hindi

किशोरावस्था में कदम रखते ही महिलाओं में बहुत से हॉर्मोन बदलाव होते हैं, जो रासायनिक संदेशवाहकों का काम करते हैं। इस दौरान अंडाशय में महिला हॉर्मोन एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्ट्रोन स्त्रावित होते हैं, जो गर्भाशय में नरम ऊतक की परत बनाते हैं। जो शिशु के पोषण के लिए बहुत जरूरी होती हैं।

जब तक महिला गर्भ धारण नहीं करती हैं, तब तक इस परत की महिला को कोई आवश्यकता नहीं होती हैं। इसलिए हर महिने ये परत खून के रूप में योनि से बाहर निकल जाती हैं। इसी खून के स्त्राव को मासिक धर्म कहते हैं। इस अवस्था में खून को बाहर निकालने के लिए गर्भाशय सिकुड़ता हैं। जिसकी वजह से महिलाओं को दर्द का सामना करना पड़ता हैं।

पढ़िये:

पीरियड्स में क्या करना चाहिए? – What to do in periods in Hindi

  • Periods के प्रारंभिक दो दिनों में दर्द ज्यादा होता हैं, इसलिए इन दिनों में शरीर को पूरी तरह आराम देना चाहिए।
  • योनि को साफ करने के लिए ठंडे पानी की बजाय हल्का गुनगुना पानी इस्तेमाल करना चाहिए।
  • खून से बचाव के लिए कपड़े की बजाय Sanitary Pad का उपयोग करना चाहिए।
  • हर 6 घन्टे की अवधि में Sanitary Pad बदल लेना चाहिए, क्योंकि इससे इंफेक्शन का खतरा नहीं रहता हैं।
  • डेरी फूड (Dairy Food) जैसे दूध, दही, छाछ आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • खट्टी चीजों के सेवन से भी बचना चाहिए।
  • जंक और फास्ट फूड के सेवन के बजाय पौष्टिक और संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए। क्योंकि इस समय एनर्जी की ज्यादा आवश्यकता होती हैं।
  • ज्यादा दर्दनिवारक एलोपैथिक दवाईयों के सेवन से परहेज करना चाहिए।

पीरियड्स नहीं आएं तो क्या करना चाहिए? – What to do if periods do not come

पीरियड्स नहीं आने की स्थिति में महिलाओं को बहुत ज्यादा कष्ट का सामना करना पड़ता हैं। जिसकी वजह से खासकर तनाव और शारीरिक कमजोरी होती हैं।

यदि हर माह की निश्चित तारीख की अवधि तक पीरियड्स नहीं आते हैं अथवा छूट जाते हैं, तो ऐसी स्थिति में कुछ घरेलू उपाय तथा डॉक्टरी उपाय का सहारा लिया जा सकता हैं।

कुछ एलोपैथिक दवाइयों द्वारा पीरियड्स को लाया जा सकता हैं। इन दवाईयों द्वारा पीरियड्स की तारीख को आगे पीछे किया जा सकता हैं। लेकिन इनका उपयोग डॉक्टर व विशेषज्ञ की सलाह के बाद ही करना चाहिए। क्योकि ये दवाए हार्मोन मे परिवर्तन करती है।

कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों द्वारा भी पीरियड्स को जल्दी प्राकृतिक रूप से लाया जा सकता हैं। जैसे- अजवायन, दालचीनी, मैथी आदि।

Periods FAQ in Hindi

पीरियड्स कब से कब तक आते हैं? – How long do periods last?

पीरियड्स हर महिला की स्थिति पर निर्भर करता है। पीरियड्स 8 से 15 साल तक की उम्र मे शुरू हो सकते है और 45 से लेकर 50 साल तक की उम्र तक आते रहते है। जब पीरियड्स आना बंद हो जाते है, उस अवस्था को Menopause कहते है।

पीरियड्स में संभोग कर सकते है? – Sexual Intercourse in Periods?

पीरियड्स के दौरान संभोग करने से अनचाहे गर्भधारण से बचा जा सकता हैं, क्योंकि Periods के समय गर्भ में अंडों का निषेचन नहीं हो पाता। फिर भी अनचाहे गर्भ से बचने के लिए गर्भनिरोधक का इस्तेमाल करना चाहिए।

हालांकि पीरियड्स के समय रक्त स्त्राव के कारण संभोग करना थोड़ा गंभीर हो सकता हैं, लेकिन सुरक्षित होता हैं।

पीरियड्स के बारे में लड़के क्या सोचते हैं? – What do boys think about periods?

पीरियड्स के बारे में सभी लड़को की सोच अलग-अलग हो सकती हैं। अधिकतर लड़को को वास्तविक मे पता नहीं होता है, कि पीरियड्स क्यो, कैसे और कब होते है।

वही कई लड़को सिर्फ इतना पता होता है, कि पीरियड्स मे योनि से खून आता है।

पढ़िये:

पीरियड्स में खून क्यो आता हैं?

पीरियड्स में गर्भ की परतें टूटकर खून का रूप लेकर गर्भ से बाहर निकलती हैं। इस दौरान दर्द होता है और अशुद्ध रक्त धीरे-धीरे निकलता होता हैं। खून की ज्यादा मात्रा में हानि होने पर अपने निजी मासिक धर्म चक्र से जुड़े डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

क्या पीरियड्स में दर्द होता हैं?

पीरियड्स का पूरा सप्ताह होता हैं, जिसमें प्रथम दो दिनों में दर्द सबसे ज्यादा रहता हैं और बाकी के दिनों में कम होता जाता हैं।

ज्यादा दर्द भरे दिनों में महिलाओं को पूरे शरीर में दर्द होता हैं जैसे कमर दर्द, पैर दर्द, पेट दर्द, सिर दर्द आदि। यह दर्द गर्भाशय के सिकुड़ने और रक्त स्त्राव की वजह से होता हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *