Categories: FactsMedicine

14 दवा के बारे में रोचक तथ्य | Medicine Facts in Hindi

Medicine Facts in Hindi: इस लेख में आपको दवा के रोचक तथ्य के बारे में जानकारी मिलेंगी। वर्तमान में दवाए बेहद महत्वपूर्ण है, ये हमें हर तरह की बीमारियों से निजात दिलाती है और विटामिन जैसे जरूरी तत्वों की कमी हो, तो भी पूर्ति कर लेती है।

दवाइयों को घटकों और उनकी कार्यशैली अनुसार बहुत से भागों में बांटा गया है, जैसे NSAID, प्रोबायोटिक, Painkiller (दर्द निवारक) आदि। कुछ दवाएं जिन्हें डॉक्टर की पर्ची बिना खरीदा जा सकते है, उन्हें OTC (Over-The-Counter) कहते है, जैसे Aspirin। और जिन्हें खरीदने के लिए डॉक्टर की पर्ची जरूरी है, वे शैड्यूल दवाओं की सूची में आती है। जैसे Dp Gesic Tablet

यहाँ हम आपको दवाओं के बारे में ऐसे तथ्य (Facts) बताएँगे, जिनके बारे में शायद आपको नही पता होगा और रोचक भी होंगे।

14 दवा के बारे में रोचक तथ्य – Medicine Facts in Hindi

1. दवाओं की लत लगती है

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बहुत-सी ऐसी दवाइयां हैं, जिनके सेवन से इनकी आदत लग जाती हैं। जैसे निकोटिन की लत लग जाती है, उसी प्रकार कुछ दवाओं के घटकों की आदत लग जाती है और रोगी उन्हें लिए बिना फिर नही रह पाता है।

ये कुछ प्रसिद्ध एडिक्टिव दवा घटक है:  Alprazolam, Clonazepam, Escitalopram, Meperidine, Codeine आदि।

2. Merit Ptah सबसे पहली महिला डॉक्टर थी

Amberley द्वारा 2015 में प्रकाशित एक किताब The History of Medicine में पहली महिला डॉक्टर Merit Ptah की छवि का वर्णन किया गया हैं। यह 2700 ईसा पूर्व मिस्र में रहती थी, जिसका पता इसकी कब्र पर अंकित ‘मुख्य चिकित्सक‘ उपाधि द्वारा लगाया गया।

कई शिलालेखों से वहाँ की महिलाओं में उच्च दर्जे की चिकित्सा प्रणाली का ज्ञापन मिलता हैं। महिला डॉक्टर प्राचीन मिस्र के समाज का एक सम्मानित हिस्सा थी।

3. भारत का चिकित्सा प्रणाली में अहम योगदान हैं

भारत में पुराणिक काल से संस्कृत भाषा का बोलबाला रहा हैं। चिकित्सा के क्षेत्र में भारत का योगदान संस्कृत में प्रकाशित सुश्रुत संहिता नामक पुस्तक से ज्ञात हैं। इसके निर्माण की सटीक तिथि अज्ञात हैं।

लेकिन शोधकर्ताओं की सहमति से निश्चय किया गया, कि यह लगभग 600 ईसा पूर्व लिखी गई थी। सुश्रुत संहिता से शल्य चिकित्सा, औषध विज्ञान, रोगी प्रबंधन, मोतियाबिंद की सर्जरी आदि सभी की जानकारी प्रदान होती हैं।

पढ़िये:

4. WHO की अनुमति दवा बनाने से लेकर बेचने में जरूरी है

विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) एक अंतर्राष्ट्रीय संवैधानिक संस्था हैं, जो पूरे विश्व में दवाईयों से जुड़े हर तथ्य पर निगरानी तथा नियंत्रण रखती हैं। एक उचित, सुरक्षित और प्रभावी दवा का उच्च स्तर पर निर्माण, पैकेजिंग, गाइडलाइंस, मार्केटिंग सभी प्रक्रिया WHO के हस्तक्षेप द्वारा पूरी होती हैं।

WHO के एक ऑनलाइन डाटा से हाल ही में पता चला हैं, कि भारत डॉक्टरों की संख्या में 133 विकासशील देशों में 66वें स्थान पर हैं और नर्सों की संख्या में भारत को 75वां स्थान प्राप्त हुआ हैं।

5. निम्न कंपनियां सबसे ज्यादा दवा की बिक्री करती है

निम्न कंपनिया पूरे विश्व में सबसे ज्यादा दवाइयों का उत्पादन करती है और बेचती है।

  • जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnson)
  • नोवार्टिस (Novartis)
  • फाइजर (Pfizer)
  • बायर (Bayer)
  • रॉश (Roche)
  • मर्क एंड कंपनी (Merck)
  • सनोफी (Sanofi)
  • ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन (GlaxoSmithKline)
  • एस्ट्राजेनेका (AstraZeneca)
  • गिलीड साइंस (Gilead Sciences)

6. मकड़ी का जाला दवा की तरह उपयोग होता है

पहले जमाने में ग्रीस और रोम के चिकित्सक मकड़ी के जाले को घाव पर लगाते थे। क्योकि मकड़ी के जाल में विटामिन K होता है व एंटीसेप्टिक और एंटिफंगल गुण होते है, जिससे जल्दी आराम मिलता है और खून कम बहता है।

7. Hippocrates को आधुनिक चिकित्सा का पिता कहा जाता हैं

Hippocrates का जन्म 460-370 ईसा पूर्व ग्रीस में हुआ था। इनके पास 70 प्रारंभिक चिकित्सा कार्यों का एक पूरा संग्रह हैं, जो विद्यार्थियों के बीच बहुत प्रचलित हैं।

8. दवाईयों में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला घटक पेरासिटामोल हैं

आजकल दवाइयों में सबसे ज्यादा इस्तेमाल पेरासिटामोल घटक का होता हैं। क्योंकि ज्यादातर दवाइयां दर्दनिवारक तथा बुखारनाशक होती हैं, और पेरासिटामोल में यह गुण है। इसके अतिरिक्त पेरासिटामोल रसायन आसानी से उपलब्ध भी हो जाता हैं।

9. दवाइयां मानव जीवन की मूल कड़ी हैं

प्रकृति में अनियंत्रित प्रदूषण की वजह से बहुत-सी हानिकारक बीमारियों का निर्माण होता हैं, जो मानव जाति के लिए असंवेदनशील होती हैं।

इनका उपचार रासायनिक घटकों के अनुपात से निर्मित की गई दवाइयों द्वारा ही संभव होता हैं। बिना दवाईयों के मानव शरीर बीमारियों से लड़ने में पूरी तरह लाचार दिखाई देता हैं और अब बिना दवाईयों के मानव जीवन का कोई अस्तित्व नहीं रह सकता।

क्योंकि जितनी ताकतवर हम दवाएं बनाते है, किटाणु और जीवाणु भी साथ-साथ में विकास करते है। इसलिए तरह-तरह की नयी बीमारियाँ सामने आ रही है।

पढ़िये:

10. भारत 11वां सबसे बड़ा दवा निर्यातक है

Worlds Top Exports की रिपोर्ट अनुसार, जर्मनी 14.5%, स्विट्जरलैंड 12.2%, नीदरलैंड 7.9% दवाओं के सबसे बड़े निर्यातक देश है। 3.8% के साथ भारत 11वां सबसे बड़ा दवा निर्यातक देश है। भारत में सबसे ज्यादा दवाइयाँ गुजरात राज्य में उत्पाद होती है।

11. आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रणाली भारत की देन हैं

विश्व की सबसे पुराणिक और प्रचलित आयुर्वेदा चिकित्सा प्रणाली भारत की देन हैं। यह विभिन्न तरह की वनस्पतियों के ऊपर आधारित हैं, जिनकी जानकारी आयुर्वेद की पुस्तकों में लिखित हैं। मान्यताओं के अनुसार, आयुर्वेद देवकाल से प्रचलित हैं। भारत के साथ-साथ आज विश्व के बहुत सारे देशों ने भी इस चिकित्सा प्रणाली को अपना लिया हैं।

आयुर्वेदिक चिकत्सा में पेड़-पोधों का उपयोग कर औषधि बनाई जाती है। जो बेहद कारगर होती है और ना बराबर दुष्प्रभाव देती है।

12. दवाइयां खेती में आपसी एकता का प्रतीक हैं

भारत जैसे कृषि प्रदान देश में खेती को उत्तम श्रेणी में स्थान दिया जाता हैं। खेती संबंधित दवाएं प्रकृति और जीवों से परस्पर एकता का संबंध बनाएं रखती हैं। एग्रीकल्चर विज्ञान खेती में ज्यादा पैदावार और कम लागत के लिए विभिन्न दवाइयों के शोध में लगा पड़ा हैं, जो सस्ती और ज्यादा कारगर हो।

13. रासायनिक दवाइयां जानलेवा हो सकती हैं

दवाइयाँ अक्सर हमारे स्वस्था को बेहतर करती है। लेकिन गलत तरीके से या ओवरडोज़ या सिर्फ गलत दवा से मौत भी हो सकती है। दवाएं हमारे शरीर के लिए बेहद संवेदनशील होती है, इसलिए इनका सेवन हमेशा डॉक्टर से निजी सलाह लेने के बाद ही करना चाहिए।

हर व्यक्ति की अवस्था, उम्र, लिंग, जारी दवाई व स्वास्थ्य इतिहास अनुसार दवा की खुराक बदलती है व गर्भावस्था, लिवर, किडनी व हृदय विकार के मामले में हर दवा लेने से पहले डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

पढ़िये:

14. मैनफोर्स टैबलेट से मुरजा पौधा खड़ा हो सकता है

लिंग में लंबे समय तक कड़कपन लाने के लिए उपयोग किए जाने वाली दवा मैनफोर्स और वियाग्रा (Sildenafil मुख्य घटक है) से एक मुरजे पौधे को भी खड़ा किया जा सकता है। आमतौर पर पुरुष न्यूनतम 50MG Sildenafil लेते है, जबकी 1MG Sildenafil से एक पौधा 1 हफ्ते ज्यादा सीधा खड़ा रह सकता है।

आखरी शब्द

हमें उम्मीद है, कि यह लेख “14 दवा के बारे में रोचक तथ्य | Medicine Facts in Hindi” आपके लिए उपयोगी रहा होगा और आपको इससे कुछ नया जानने को मिला होगा। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है, तो हमें कमेंट में देना ना भूले।