Categories: Herbal Medicine

लोध्रासव: फायदे, नुकसान, खुराक, घटक | Lodhrasava in Hindi

नाम (Name) लोध्रासव
घटक (Ingredient) लोधरा + आंवला + कचूर + पुश्कर्मूल + धायपुष्प + इलायची + मुरवा + अज्वैन + चव्य + अतिविषा + प्रियांगु + चिरायता + टगर + कुटकी + भारंगी + चित्राक + पिपलामूल + कुटज + कूठ + पाठा + इन्द्रजौ + नागकेसर + मुस्ताक + तेजपत्ता + काली मिर्च + पानी शहद + सुपारी + इंद्रावरूनी
दवा-प्रकार (Type of Drug) हर्बल दवाई
उपयोग (Uses) गर्भ का ठहराव, मूत्र विकारों से बचाव, रक्त का शुद्धिकरण, एनीमिया और पाइल्स का इलाज आदि
दुष्प्रभाव (Side Effects) अत्यधिक गर्मी महसूस होना, चिड़चिड़ापन, खुजली, सिर दर्द आदि
ख़ुराक (Dosage) डॉक्टरी सलाह अनुसार
किसी अवस्था पर प्रभाव गर्भावस्था, स्तनपान कराने वाली महिलाए
खाद्य पदार्थ से प्रतिक्रिया अज्ञात
अन्य दवाई से प्रतिक्रिया अज्ञात

लोध्रासव क्या है? – What is Lodhrasava in Hindi

लोध्रासव को हिंदी में कई नामों से परिभाषित किया जाता हैं, जैसे लोध्रासव, लोध्रसव और रोद्रसाव। यह हर्बल पदार्थों से बनी एक आयुर्वेदिक दवा हैं, जो तरल रूप में मौखिक खुराक द्वारा ली जाती हैं।

इस आयुर्वेदिक दवा का उपयोग महिलाओं और पुरुषों में मूत्र से संबंधी हर तरह के विकारों के इलाज में किया जाता हैं। इसके साथ ही इस दवा का इस्तेमाल गर्भावस्था की कई जटिलताओं को सरल या दूर करने में भी किया जा सकता हैं।

इसके अलावा बहुत से ज्ञात विकारों जैसे ल्यूकोडर्मा, एनीमिया, लेकोरो, मेनोरेजिया, मोटापा, यौन संबंधी रोगों, पाइल्स, त्वचा रोग, रक्त प्रदर, श्वेत प्रदर, बांझपन आदि सभी से निजात पाने में भी यह दवा पूरी तरह सहायक हैं। यह दवा मनुष्य की उत्पत्ति के लिए आवश्यक एक स्वस्थ गर्भाशय का निर्माण भी उचित ढंग से करती हैं। पुरुषों में इसका सेवन जितना हो सकें कम करने का प्रयास करें, क्योंकि यह दवा पुरुषों के हार्मोन में गिरावट पैदा कर सकती हैं।

लोध्रासव के घटक – Lodhrasava Ingredient in Hindi

निम्न घटक लोध्रासव में एक निश्चित अनुपात में होते है।

लोधरा + आंवला + कचूर + पुश्कर्मूल + धायपुष्प + इलायची + मुरवा + अज्वैन + चव्य + अतिविषा + प्रियांगु + चिरायता + टगर + कुटकी + भारंगी + चित्राक + पिपलामूल + कुटज + कूठ + पाठा + इन्द्रजौ + नागकेसर + मुस्ताक + तेजपत्ता + काली मिर्च + पानी शहद + सुपारी + इंद्रावरूनी

लोध्रासव कैसे काम करती है?

  • लोध्रासव में बहुत-से तत्व शामिल होने के कारण इसकी कार्यशैली बहुत प्रभावकारी हैं। यह दवा कफ का अंत करने का कार्य भी करती हैं।
  • यह दवा यौन संचारित रोगों से बचने में भी मदद करती हैं। साथ ही, यह दवा हार्मोन असंतुलन ठीक कर इसकी वजह से पैदा हुए विकारों का इलाज भी बड़ी सरलता से कर सकती हैं।
  • यह दवा महिलाओं में अंड का निषेचन अच्छे से करने का कार्य करती हैं और बार-बार हो रहें गर्भपात को दूर कर एक सुरक्षित गर्भ ठहराव करने में सहायक हैं।
  • इस दवा से रक्त का शुद्धिकरण हो सकता हैं और रक्त के प्रवाह की गतिशीलता एकदम सामान्य हो सकती हैं जिससे त्वचा संबंधी विकारों के इलाज में मदद मिलती हैं।

पढ़िये: Abhayarishta in Hindi | Makardhwaj Vati in Hindi

लोध्रासव के उपयोग व फायदे – Lodhrasava Uses & Benefits in Hindi

लोध्रासव के नियमित सही सेवन के निम्नलिखित उपयोग व फायदे है।

  • अनावश्यक चर्बी का नाश कर मोटापा कम करना
  • ज्यादा रक्तस्राव को नियंत्रित करना
  • गर्भ को विकसित करने में मददगार
  • खून में कमी की भरपाई
  • रक्तप्रदर, श्वेतप्रदर रोगों से छुटकारा
  • शारीरिक थकावट मिटाना
  • गर्भ का ठहराव
  • मूत्र विकारों से बचाव
  • कफ और पित्त से जुड़े रोगों के इलाज में सहायक
  • लीवर और किड़नी को प्रबलता प्रदान करना
  • बांझपन को दूर करना
  • रक्त का शुद्धिकरण
  • एनीमिया और पाइल्स का इलाज
  • त्वचा रोगों जैसे खुजली, एलर्जी, दाग-धब्बों आदि में कारगर
  • हृदय की प्रबलता पर ध्यान देना

लोध्रासव के दुष्प्रभाव – Lodhrasava Side Effects in Hindi

लोध्रासव को दवा के रूप में आयुर्वेदिक तौर-तरीकों से इस्तेमाल करने पर इसके नुकसानों की संख्या शून्य मानी जा सकती हैं। ज्यादातर इस दवा का इस्तेमाल महिलाओं द्वारा किया जाता हैं, क्योंकि इसका मुख्य कार्य गर्भावस्था की जटिलता को संभालना हैं। पुरुषों में इस दवा का सेवन कम से कम करने की सलाह दी जाती हैं। यह नर हार्मोन में भारी गिरावट का कारण बन सकती हैं, जिससे कई मर्दाना विषम स्थितियां पैदा हो सकती हैं।


इस दवा की खुराक के साथ गलत व्यवहार किये जाने पर निम्नलिखित दुर्लभ दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते हैं।

  • अत्यधिक गर्मी महसूस होना
  • चिड़चिड़ापन
  • खुजली
  • सिर दर्द
  • कामेच्छा में कमी आदि।

पढ़िये: लाक्षादि गुग्गुल | कुटजारिष्ट

लोध्रासव की खुराक – Lodhrasava Dosage in Hindi

  • लोध्रासव की आपातकालीन आवश्यकता होने पर इसकी खुराक इस दवा पर अंकित निर्देशों के अनुसार ली जा सकती हैं। लेकिन कुछ समय के भीतर इस बारें में एक अच्छे आयुर्वेदिक डॉक्टर या विशेषज्ञ को जरूर सूचित करें।
  • एक सामान्य आयु के व्यक्ति के लिए इसकी खुराक दिन में 10-30ml सामान्य और उचित हैं।
  • इसकी खुराक को अलग-अलग विभाजित भागों में लेवें। पानी के साथ इसका सेवन करें।
  • 5 वर्ष से अधिक आयु के बच्चों में इसकी खुराक दिन में 2.5-10ml लघुकालिक अवधि के लिए दी जा सकती हैं।
  • खुराक में बिना डॉक्टरी सलाह बदलाव करने से बचें। गंभीरता के आधार पर खुराक को कम या ज्यादा करने हेतु डॉक्टर से परामर्श लेवें।
  • छूटी खुराक की ओर ध्यान देते हुए जल्द से जल्द उसे लेने के बारें में करवाई करें। अनावश्यक खुराक लेने से बचें।
  • ओवरडोज़ का खतरा महसूस होते ही खुराक पर रोक लगाकर जल्द से जल्द चिकित्सा सुविधा तलाश करें।

सावधानिया – Lodhrasava Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में लोध्रासव के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था में लोध्रासव से संवेदनशीलता ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, डॉक्टर को अवस्था बताकर ही लोध्रासवकी खुराक लें।

  • गर्भावस्था
  • स्तनपान कराने वाली महिलाए

भोजन के साथ प्रतिक्रिया

लोध्रासव की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

अन्य दवाई के साथ प्रतिक्रिया

लोध्रासव की अन्य दवाई के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी उपयुक्त नहीं है। इस विषय पर डॉक्टर से उचित सलाह लें।

पढ़िये: Arogyavardhini Vati in Hindi | Kumaryasava in Hindi

Lodhrasava FAQ in Hindi

1) क्या लोध्रासव को खाली पेट लेना उचित हैं?

उत्तर: इस दवा का सेवन हमेशा भोजन के बाद करने की सलाह दी जाती हैं, क्योंकि भोजन के साथ यह दवा अच्छे से कार्य करती हैं। इसमें 5-10% एल्कोहोल पहले से उपस्थित होने के कारण खाली पेट इसके सेवन से पेट में जलन हो सकती हैं। इसलिए इस दवा को हमेशा भोजन के पश्चात ही लेवें।

2) क्या लोध्रासव गर्भवती और स्तनपान वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित हैं?

उत्तर: गर्भवती और स्तनपान वाली महिलाओं में स्वास्थ्य की कुशलता बनायें रखने हेतु यह दवा एक सहायक के रूप में कार्य कर सकती हैं। इस बारें में ज्यादा जानकारी हेतु हमेशा एक अच्छे डॉक्टर की सलाह लेवें।

3) क्या लोध्रासव एल्कोहोल के साथ सुरक्षित हैं?

उत्तर: इस दवा की खुराक का सेवन सिर्फ पानी के साथ किया जाना चाहिए क्योंकि पानी ही इसके लिए उचित माध्यम हैं। इस दवा के से साथ एल्कोहोल के सेवन से बचना चाहिए।

4) क्या लोध्रासव के सेवन से इसकी आदत लग सकती हैं?

उत्तर: नहीं, इस दवा में उपस्थित सभी हर्बल उत्पादों के कारण इसकी आदत नहीं लगती हैं। हालांकि दवा को लंबे समय तक इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर ले लेवें।

5) क्या लोध्रासव भारत में लीगल हैं?

उत्तर: हां, एक बेहतरीन आयुर्वेदिक दवा होने के कारण यह भारत में पूर्णतया लीगल हैं।

पढ़िये: अकीक पिष्टी | पिपल्यासव