Categories: Herbal Medicine

लाक्षादि गुग्गुल के फायदे, नुकसान, खुराक, उपयोग | Lakshadi Guggul in Hindi

लाक्षादि गुग्गुल क्या है? – What is Lakshadi Guggul in Hindi

लाक्षादि गुग्गुल एक आयुर्वेदिक औषधि हैं, जो सम्पूर्ण कंकाल तंत्र की मजबूती बनायें रखती हैं। यह दवा हड्डियों से जुड़े सभी विकारों के कारण अवरुद्ध शारीरिक कामकाज को सुधारती हैं। इसका उपयोग समस्त हड्डियों की समस्याओं जैसे अस्थिभंग, सूजन, दर्द, फ्रैक्चर, ऑस्टियोपोरोसिस, पुरानी ओस्टियोआर्थराइटिस, हड्डियों का कमजोर होना, मांसपेशियों में तनाव, मोच आदि सभी के इलाज हेतु किया जाता हैं।

साथ ही, यह दवा हड्डियों को मोटाई अथवा घनत्व प्रदान कर कैल्शियम की पूरी भरपाई में भी मददगार हैं। इसके अतिरिक्त, यह दवा मधुमेह के मरीजों में आयी हड्डियों की कमजोरी तथा भ्रंगता को दूर करने हेतु भी एक बेहतरीन विकल्प हैं।

टूटी हुई हड्डीयों को जोड़ने में भी यह दवा उत्तम मानी जाती हैं। गर्भावस्था और अतिसंवेदनशीलता के मामलों में इस दवा के सेवन को टाला जाना चाहिए।

लाक्षादि गुग्गुल की संरचना – Lakshadi Guggul Composition in Hindi

लाक्षादि गुग्गुल एक हर्बल तत्वों से बनी प्रभावकारी दवा हैं, जिसे निम्नलिखित सक्रिय सामग्रियों द्वारा निर्मित किया जाता हैं।

अर्जुन + लाक्षा (लाख) + नागबाला + हड़जोड़ + अश्वगंधा + शुद्ध गुग्गुल

पढ़िये: Kutajarishta in Hindi | Arogyavardhini Vati in Hindi

Lakshadi Guggul कैसे काम करती है?

  • इस दवा की कार्यप्रणाली इसमें उपस्थित घटकों के प्राकृतिक गुणों पर आधारित होती हैं। इसमें शामिल सारे यौगिक मिलकर एक स्वास्थ्य सुधारक श्रृंखला का निर्माण करते हैं, जो भौतिक तंत्र को मजबूती प्रदान करने में सहायक हैं।
  • अर्जुन एक जड़ी-बूटी के रूप में कार्य करता हैं, जो हृदय और इसके कवच को प्रबलता प्रदान कर ताकत और नई ऊर्जा का संचार करता हैं।
  • लाक्षा इस दवा का मुख्य घटक हैं, जो गोंद के रूप में चिपचिपा होता हैं। यह टूटी हड्डियों को जोड़ने और फ्रैक्चर निकालने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं। अर्थात यह हड्डियों को जल्दी जोड़ने का कार्य बखूबी करता हैं।
  • नागबाला जैसी जड़ी-बूटी मांसपेशियों में रक्त का प्रवाह सुधारकर मजबूती प्रदान करता हैं।
  • हड़जोड़ बहुत ही प्रभाशाली प्राकृतिक यौगिक हैं, जिसे हड्डियों को जोड़ने हेतु प्रयोग किया जाता हैं। यह हड्डियों के लिए आवश्यक कैल्शियम एवं अन्य पोषक तत्वों की भरपाई भी पूरी करता हैं।
  • अश्वगंधा एक ताकतदार धातु हैं, जो शरीर की आवश्यक गर्मी को बनायें रखता हैं और हड्डियों में संक्रमण फैलने से भी रक्षा करता हैं। साथ ही, यह अस्थिभंग की वजह से आई कमजोरी को भी दूर करने में मददगार हैं।
  • शुद्ध गूगल एक विख्यात जड़ी बूटी हैं, जो इस दवा को दर्दनिवारक श्रेणी में स्थान प्रदान करता हैं। इसका मुख्य कार्य दर्द और सूजन को कम करना हैं।

लाक्षादि गुग्गुल के उपयोग व फायदे – Lakshadi Guggul Uses & Benefits in Hindi

निम्नलिखित लाक्षादि गुग्गुल के उपयोग व फायदे नियमित सही सेवन करने के है

  • हड्डियों के घनत्व में बढ़ोतरी
  • भ्रंगता का खंडन
  • आवश्यक कैल्शियम और पोषक तत्वों की आपूर्ति
  • फ्रैक्चर का इलाज
  • हड्डियों की चोट, मोच, चनका में दर्द से राहत
  • कमर दर्द को दूर करना
  • सूजन विरोधी गुण
  • टूटी हुई हड्डियों को बखूबी जोड़ने में फायदेमंद
  • शारीरिक ढांचे का आकार बनायें रखना
  • रीढ़ की हड्डियों की जीवन आयु बढ़ाना
  • जोड़ों की जकड़न मिटाना
  • ऑस्टियोआर्थराइटिस और ऑस्टियोपोरोसिस में लाभकारी
  • एस्ट्रोजन की तरह कार्यवाही करना
  • प्रतिरक्षा तंत्र में सुधार
  • हीलिंग प्रक्रिया को तेज करना

लाक्षादि गुग्गुल के दुष्प्रभाव – Lakshadi Guggul Side Effects in Hindi

लाक्षादि गुग्गुल एक आयुर्वेदिक दवा है, जिसके दुष्प्रभाव न के बराबर देखें गए हैं। इस दवा की खुराक को तय सीमा से अधिक लगातार लेने से कुछ मामूली लक्षणों की अनुभूति हो सकती हैं।

निम्नलिखित लाक्षादि गुग्गुल से हो सकने वाले दुष्प्रभाव है।

  • चक्कर
  • जी मचलाना
  • पेट में जलन
  • मुँह में कड़वापन
  • उनींदापन आदि

पढ़िये: कुमारी आसव | अकीक पिष्टी

लाक्षादि गुग्गुल की खुराक – Lakshadi Guggul Dosage in Hindi

  • लाक्षादि गुग्गुल खुराक की आवश्यकता महसूस होने पर किसी विशेषज्ञ या डॉक्टर से अपनी अवस्था अनुसार खुराक लेना उचित है।
  • एक सामान्य व्यक्ति के लिए लाक्षादि गुग्गुल की खुराक दिन में दो-दो गोली सुबह शाम भोजन के बाद ताजे पानी के साथ लेना बहुत ही लाभकारी होता हैं।
  • बच्चों में इसकी खुराक का कुछ हिस्सा दिया जा सकता हैं। लेकिन खुराक की मात्रा और समयावधि बाल रोग विशेषज्ञ द्वारा नियुक्त किये जाने चाहिए।
  • खुराक में सुविधानुसार उतार-चढ़ाव करने हेतु डॉक्टर से सलाह ली जानी आवश्यक हैं।
  • छूटी खुराक को जल्द से जल्द लेने के बारें में विचार किया जाना चाहिए। अगर अगली खुराक का समय निकट हैं, तो छूटी खुराक को छोड़ देना चाहिए।
  • ओवरडोज़ का पता लगते ही खुराक बंद कर तुरंत नजदीकी चिकित्सा सहायता तलाश करें।

सावधानिया – Lakshadi Guggul Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में Lakshadi Guggul के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में लाक्षादि गुग्गुलl से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, डॉक्टर को अवस्था बताकर हीलाक्षादि गुग्गुल की खुराक लें।

  • गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिलाए
  • अतिसंवेदनशीलता

भोजन के साथ प्रतिक्रिया

लाक्षादि गुग्गुल की भोजन के साथ प्रतिक्रिया अज्ञात है।

अन्य दवाई के साथ प्रतिक्रिया

लाक्षादि गुग्गुल की अन्य दवाई से प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है। अगर कोई नियमित किसी दवा की खुराक लेता है, तो उसे लाक्षादि गुग्गुल शूरु करने से पहले एक बार डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

पढ़िये: Pippalyasavam in Hindi | Vidangarishta in Hindi

Lakshadi Guggul FAQ in Hindi

1) क्या लाक्षादि गुग्गुल गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित हैं?

उत्तर: यह दवा गर्भवती महिलाओं में अनुशंसित की जा सकती हैं। गर्भवस्था में गर्भ को धारण करने के लिए यह दवा हड्डियों को मजबूती प्रदान करने में पूरी तरह सहायक हैं। लेकिन हर जटिलता से बचाव हेतु इस विषय में डॉक्टरी हस्तक्षेप आवश्यक हैं।

2) क्या लाक्षादि गुग्गुल को भूखे पेट लिया जा सकता हैं?

उत्तर: आमतौर पर, इस दवा की खुराक भोजन के बाद लेने की सलाह दी जाती हैं, क्योंकि इससे भोजन के साथ दवा का भी अवशोषण अच्छे से होता हैं और बेहतर परिणाम निकलता हैं। हालांकि भूखे पेट भी इस दवा से कोई हानि नहीं हैं, लेकिन अधिक मात्रा में भूखे पेट खुराक लेने से कभी-कभी पेट की समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

3) क्या लाक्षादि गुग्गुल एल्कोहोल के साथ सुरक्षित हैं?

उत्तर: इस दवा की एल्कोहोल के साथ सुरक्षा की बात करें, तो यह पूरी तरह गलत हैं। क्योंकि हर दवा एल्कोहोल के साथ कभी-भी सुरक्षित नहीं हैं। इसलिए इसके साथ एल्कोहोल के सेवन से पूरी तरह परहेज किया जाना चाहिए।

4) क्या लाक्षादि गुग्गुल के सेवन से इसकी लत लग सकती हैं?

उत्तर: इस दवा की खुराक से इसकी लत लगने का सवाल ही पैदा नहीं होता हैं, क्योंकि इसमें उपस्थित सारे घटक पूर्णतया आयुर्वेदिक और हर्बल हैं। जो शरीर को आदी नही बनाते है।

5) क्या लाक्षादि गुग्गुल भारत में लीगल हैं?

उत्तर: हां, यह दवा भारत में पूरी तरह से लीगल हैं और आसानी से हर आयुर्वेदिक स्टोर पर उपलब्ध हैं।

पढ़िये: पंचतिक्त घृत | प्रवाल भस्म