कुटजारिष्ट के फायदे, नुकसान, खुराक, उपयोग | Kutajarishta in Hindi

Kutajarishta in Hindi

कुटजारिष्ट सिरप क्या है? – What is Kutajarishta Syrup in Hindi

कुटजारिष्ट को मानव पेट के लिए बहुत-ही उत्तम दवा हैं। इसमें एक से एक हर्बल उत्पादों की उपस्थिति इस दवा को एक बेहतरीन आयुर्वेदिक होने का प्रमाण देती हैं। यह दवा पेट की समस्त बीमारियों का इलाज बखूबी करती हैं।

इसका उपयोग पेट की उदासीनता, बवासीर, पेचिश, वात, कफ, दस्त, खांसी, पुराना बुखार, मल में खून, पेट दर्द, डायरिया, आंतों में कचरा, लीवर में गंदगी, भूख न लगना आदि सम्पूर्ण लक्षणों की रोकथाम में किया जाता हैं। कुटजारिष्ट एक मौखिक दवा हैं, जिसमें पहले से कुछ मात्रा एल्कोहोल की शामिल होती हैं, जो इसके प्रभाव में तेजी लाने का कार्य करता हैं।

आज की दैनिक जीवन की दिनचर्या के अनुसार खान-पान में खराबी के कारण पाचन तंत्र बहुत कमजोर हो जाता हैं और मानव स्वास्थ्य अनेक बीमारियों के अधीन हो जाता हैं। यह दवा पाचन तंत्र को एक सुदृढ़ मार्ग प्रदान कर रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी सुधार करने में सहायक हैं।

कुटजारिष्ट की घटक- Kutajarishta Ingredient in Hindi

कुटजारिष्ट में उपस्थित अवयवों को एक निश्चित अनुपात में मिलाकर इस दवा का सुरक्षित रूप तैयार किया जाता हैं। कुटजारिष्ट दवा को बनाने में लगी पूरी हर्बल सामग्रियों की सूची निम्नलिखित हैं।

कुटज की छाल + द्राक्षा + धातकी + महुआ+ गंभारी + गुड + जल (काढ़ा बनाने के लिए) 

कुटजारिष्ट कैसे काम करती है?

  • यह दवा आंतों की गतिशीलता को कम करके दस्त की रोकथाम करती हैं। इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट्स और एंटी-माइक्रोबियल गुणों की अधिकता होने के कारण यह दस्त के लिए जिम्मेदार रोगाणुओं से लड़ने में भी सहायता करती हैं।
  • यह दवा गले और फेफड़ों से कफ साफ कर खांसी को कम करने में मददगार हैं। साथ ही, फेफड़ों से जुड़े विकारों का इलाज भी बड़ी सहजता से करती हैं।
  • IBS (इरिटेबल बाउल सिंड्रोम) एक आंत से जुड़ी बड़ी बीमारी हैं। इसकी वजह से पैदा हुई पेट में सूजन, मरोड़ तथा दर्द को यह दवा जड़ से खत्म कर सकती हैं।

पढ़िये: Arogyavardhini Vati in Hindi | Kumaryasava in Hindi

कुटजारिष्ट के उपयोग व फायदे – Kutajarishta Uses & Benefits in Hindi

कुटजारिष्ट को निम्न अवस्था व विकार में डॉक्टर द्वारा रोगी को सलाह किया जाता है। Kutajarishta का सेवन डॉक्टर से व्यक्तिगत सलाह बिना लिए ना करें।

  • पेट को ठंडक पहुचाएं
  • क्रोनिक ब्रोंकाइटिस कम करने में फायदेमंद
  • गैस्ट्रिक अटैक से बचाव
  • दस्त को कम करने में सहायक
  • पानी की कमी को दूर करना
  • गले और फेफड़ों से कफ कम करें
  • पुरानी खांसी का अच्छे से इलाज
  • आंतों की गंदगी दूर करना
  • बवसीर में लाभकारी
  • वात संबंधी समस्याओं का निपटारा
  • पाचन तंत्र को सुदृढ़ बनाना
  • प्रबल हृदय प्रदान करने में सहायक
  • भूख में बढ़ोतरी
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना
  • पेट में संक्रमणों की वृद्धि को कम करें

कुटजारिष्ट के दुष्प्रभाव – Kutajarishta Side Effects in Hindi

  • कुटजारिष्ट एक हर्बल दवा हैं, जिसके दुष्प्रभाव आमतौर पर बहुत ही कम और सामान्य हैं। यदि इसे जरूरी निर्देशों के आधार पर उपभोग किया जायें, तो इसके विपरीत प्रभावों की संभावना न के बराबर होती हैं।
  • इस दवा की खुराक के आधार पर इसके नुकसान पैदा हो सकते हैं। यदि इसकी गलत खुराक या ज्यादा खुराक का सेवन लगातार किया जा रहा हैं, तो जी मचलाना, उल्टी, कब्ज होना जैसे दुष्प्रभाव साफ तौर पर महसूस हो सकते हैं।

पढ़िये: अकीक पिष्टी | पिपल्यासव 

कुटजारिष्ट की खुराक – Kutajarishta Dosage in Hindi

  • कुटजारिष्ट सिरप की खुराक आयुर्वेदिक डॉक्टर या विशेषज्ञ के आधार पर चुनी जानी चाहिए और इससे जुड़ी हर जानकारी का आकलन किया जाना चाहिए।
  • एक सामान्य वयस्क में इसकी खुराक प्रीतिदिन 10-20ml देना लाभकारी हैं। लक्षण की गंभीरता के आधार पर डॉक्टरी सलाह के अनुरूप यह आंकड़ा बढ़ाया जा सकता हैं।
  • बच्चों (5 वर्ष से अधिक आयु के) में यह दवा अनुशंसित की जा सकती हैं, लेकिन इसकी खुराक दिन में दो बार 5ml तक ही देवें। जटिलता की स्थिति से बचाव हेतु इस बारें में भी चिकित्सक से जुड़े रहें।
  • इस दवा की खुराक को लेने का उचित समय सुबह और शाम भोजन के बाद गुनगुने पानी के साथ उत्तम माना जाता हैं।
  • खुराक में सुविधानुसार बदलाव करने से बचें।
  • ओवरडोज़ से सामना होने पर तुरंत नजदीकी सहायता तलाश की जानी चाहिए।
  • एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित कुटजारिष्ट का सेवन जल्द करें। अगली खुराक कुटजारिष्ट की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

पढ़िये: Vidangarishta in Hindi | Panchatikta Ghrita in Hindi

Kutajarishta FAQ in Hindi

1) क्या कुटजारिष्ट गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित हैं?

उत्तर: गर्भावस्था में भ्रूण पर बुरा असर पड़े और उसका विकास रुकें ऐसा कोई काम नहीं करना चाहिए। यह दवा भले ही हर्बल और आयुर्वेदिक हैं लेकिन गर्भवती महिला को इसे लेने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए। हर तरह की सावधानी को महत्व देना आवश्यक हैं।

2) क्या कुटजारिष्ट मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करती हैं?

उत्तर: मासिक धर्म में होने वाली गतिविधियों में यह दवा किसी भी तरह का कोई प्रभाव नहीं डालती हैं और न ही ऐसी कोई समस्या पैदा करती है जिससे कि मरीज को दर्दनाक स्थिति का सामना करना पड़ सकें। यह दवा पूर्णतया स्वास्थ्य सहयोगी हैं जो प्राकृतिक क्रियाओं को बनायें रखती हैं।

3) क्या कुटजारिष्ट के सेवन से इसकी आदत लग सकती हैं?

उत्तर: यह किसी भी शोध में नहीं पाया गया है कि इस दवा के सेवन से इसकी आदत लग सकती हैं। इस दवा में उपस्थित सभी उत्पाद पूर्णतया हर्बल है जो मस्तिष्क को इसके प्रति बाध्य नहीं करते हैं।

4) क्या कुटजारिष्ट एल्कोहोल के साथ सुरक्षित हैं?

उत्तर: इस विषय में कोई ठोस सबूत सामने नहीं आया हैं लेकिन एल्कोहोल का सेवन इस दवा के साथ करने से बचा जाना चाहिए जो व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए अच्छा साबित होता हैं।

5) क्या कुटजारिष्ट भारत में लीगल दवा हैं?

उत्तर: हां, यह एक अच्छी आयुर्वेदिक दवा हैं और भारत में पूर्णतया लीगल हैं।

पढ़िये: प्रवाल भस्म | बालारिष्ट सिरप 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *