खादिरारिष्ट: फायदे, नुकसान, खुराक, घटक, उपयोग | Khadirarishta in Hindi

Khadirarishta in Hindi
नाम (Name) Khadirarishta
संरचना (Composition) खैर की लकड़ी की अन्तर छाल + दारुहल्दी + देवदारु +  इलायची + बावची + धाय के फूल +  त्रिफला + जायफल + मिश्री + दालचीनी + शहद + पीपल + पानी + लौंग + नागकेशर + तेजपान + शीतल चीनी
दवा-प्रकार (Type of Drug) हर्बल दवाई
उपयोग (Uses) अपच, कब्ज, त्वचा इंफेक्शन, खून में कमी, विषाक्ता आदि
दुष्प्रभाव (Side Effects) गैस्ट्रिक बेचैनी व पेट में जलन
ख़ुराक (Dosage) डॉक्टरी सलाह अनुसार
किसी अवस्था पर प्रभाव अतिसंवेदनशीलता व गर्भावस्था
खाद्य पदार्थ से प्रतिक्रिया अज्ञात
अन्य दवाई से प्रतिक्रिया अज्ञात

खादिरारिष्ट क्या है? – What is Khadirarishta in Hindi

खादिरारिष्ट दवा को आयुर्वेदिक तौर-तरीकों से निर्मित किया जाता हैं। इसके साथ ही, यह एक बेहतरीन पॉली हर्बल दवा हैं। जो मानव स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियों से दूर रखकर निरोगी बनायें रखने में मददगार हैं। बाहरी प्रदूषण और खराब खान-पान की वजह से पाचन तंत्र अक्सर गड़बड़ा जाता हैं, जिससे रक्त में अशुद्धियां और विषाक्ता पैदा हो सकती हैं। जो त्वचा से जुड़े अनेकों विकारों को जन्म देने के लिए जिम्मेदार हैं।

यह दवा ऐसी सभी स्थितियों में सुधार हेतु मुख्य रूप से रक्त के शुद्धिकरण पर ध्यान देती हैं। खादिरारिष्ट का उपयोग अपच, कब्ज, त्वचा इंफेक्शन, खून में कमी, विषाक्ता, कृमि संक्रमण, दाद, अस्थमा, खुजली, सूजन, सोरायसिस, मुंहासों, फुंसियों, पेट में जलन, खट्टी डकार, कफ, छाती में दबाव आदि सभी समस्याओं के इलाज में किया जा सकता हैं।

गर्भावस्था और अतिसंवेदनशीलता के मामलों में इस दवा के सेवन से पूरी तरह बचा जाना चाहिए।

खादिरारिष्ट की संरचना – Khadirarishta Composition in Hindi

खादिरारिष्ट को एक गहरे भूरे रंग के तरल के रूप में तैयार किया जाता हैं, जिसका स्वाद कसैला होता हैं। इस आयुर्वेदिक घोल को निर्मित करने में लगी हर्बल सामग्रियों की सूची निम्नलिखित हैं।

खैर की लकड़ी की अन्तर छाल + दारुहल्दी + देवदारु +  इलायची + बावची + धाय के फूल +  त्रिफला + जायफल + मिश्री + दालचीनी + शहद + पीपल + पानी + लौंग + नागकेशर + तेजपान + शीतल चीनी

खादिरारिष्ट कैसे काम करती है?

  • खादिरारिष्ट रोगों के मूल कारणों पर कार्य कर उनका अंत करती हैं। इस दवा में बहुत सारे प्राकृतिक गुण शामिल होते हैं, जो इसे प्रभावी और असरदार बनाते हैं।
  • यह दवा एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य कर शरीर से हानिकारक कणों को हटाने में मदद करती हैं और संक्रमण के खतरे को भी कम करती हैं।
  • यह दवा त्वचा पर जमा हुई गंदगी को साफ कर त्वचा क्षति की भरपाई करके कार्य करती हैं।
  • इसके अलावा यह दवा एक कृमिनाशक के रूप में भी कार्य करती हैं, जो आंतों के हानिकारक कीड़ों को नष्ट कर पाचन में सुधार करती हैं।
  • खादिरारिष्ट रक्त से जुड़ी कमियों को दूर कर एक स्वस्थ रक्त परिसंचरण तंत्र का निर्माण करने में भी कारगर हैं।

पढ़िये: Sphatika Bhasma in Hindi | Lodhrasava in Hindi

खादिरारिष्ट के उपयोग व फायदे – Khadirarishta Uses & Benefits in Hindi

निम्न उपयोग व फायदे खादिरारिष्ट के नियमित सही सेवन करने के है।

  • श्वशन दर में कमाल की बढ़ोतरी
  • त्वचा हानि की तेजी से भरपाई
  • अस्थमा में लाभदायक
  • शारीरिक सौंदर्य में निखार
  • त्वचा को कोमलता प्रदान करना
  • रक्त का प्रवाह सुधारना
  • हृदय को स्वस्थ बनायें रखने में फायदेमंद
  • पेट की अच्छे से सफाई
  • कृमि नाशक के रूप में
  • अच्छा पाचन स्वास्थ्य प्रदान करना
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार
  • चयापचयी क्रियाओं में निरंतरता
  • लीवर की दुर्बलता दूर करना
  • पीलिया के उपचार में सहायक
  • ब्लैकहेड्स और व्हाइटहेड्स से निजात
  • दर्द और सूजन से राहत
  • पित्त को कम करने में फायदेमंद
  • एनीमिया और ट्यूमर के इलाज में सहायक

खादिरारिष्ट के दुष्प्रभाव – Khadirarishta Side Effects in Hindi

  • खादिरारिष्ट से जुड़ी कुछ मुख्य बातों को अगर ध्यान में रखकर इसका सेवन किया जायें, तो इससे कोई शारीरिक नुकसान नहीं होता हैं। अक्सर इस दवा के दुष्प्रभाव इसकी खुराक में लापरवाही करने से पैदा होते हैं, जिससे सामान्य असुविधाएं हो सकती हैं।
  • यदि इस दवा के नुकसानों की बात की जायें, तो इसमें सबसे आम दुष्प्रभाव गैस्ट्रिक बेचैनी हैं, जो ज्यादा खुराक लेने की वजह से होती हैं और इसके कारण पेट में सूजन और जलन हो सकती हैं।
  • कुछ मामलों में इस दवा से मरीज को खुजली और सीने में जलन का अहसास भी हो सकता हैं।
  • खादिरारिष्ट से बहुत ज्यादा विपरीत प्रभावों से सामना होते ही जल्द से जल्द चिकित्सा सहायता लेने का प्रयास करें।
  • इससे बहुत कम मामलों में दुष्प्रभाव होते है।

पढ़िये: अभयारिष्ट | मकरध्वज वटी 

खादिरारिष्ट की खुराक – Khadirarishta Dosage in Hindi

  • खादिरारिष्ट को गुनगुने पानी में मिलाकर इसकी खुराक लेवें। इसकी खुराक को शुरू करने से पहले एक योग्य आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करें।
  • इस दवा को निर्धारित खुराक से ज्यादा लेने से बचें। इसे रोजाना एक निश्चित समय पर याद से लेवें।
  • एक सामान्य वयस्क के लिए इसकी खुराक दिन में 10-20ml हैं।
  • बच्चों में इसकी खुराक दी जा सकती हैं, लेकिन इसकी मात्रा को कम किया जाना चाहिए। रोजाना 5-10ml दवा की खुराक बच्चों के लिए सुरक्षित हैं।
  • बुजुर्गों में इसकी खुराक दिन में 10-20ml तक सीमित रखें। गंभीरता के आधार पर पूरे दिन में अधिकतम खुराक की मात्रा 60ml हैं। इससे ज्यादा शरीर के लिए हानिकारक हैं।
  • ओवरडोज़ महसूस होते ही खुराक बंद कर तुरुंत नजदीकी चिकित्सा सुविधा तलाश करें।
  • एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित खादिरारिष्ट सेवन जल्द करें। अगली खुराक खादिरारिष्ट की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

सावधानिया – Khadirarishta Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में खादिरारिष्ट के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

  • खाली पेट इस दवा के सेवन से बचें।
  • पालतू जानवरों और बच्चों की पहुँच से इसे दूर रखें।
  • मधुमेह के रोगियों में इससे सावधानी बरतने की आवश्यकता हैं।
  • इस दवा पर अंकित निर्देशों का पूरा पालन करें।
  • अनावश्यक इसका सेवन ना करें।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में खादिरारिष्ट से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, डॉक्टर को अवस्था बताकर ही खादिरारिष्ट की खुराक लें।

  • गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलायें
  • अतिसंवेदनशीलता

भोजन के साथ प्रतिक्रिया

खादिरारिष्ट की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

अन्य दवाई के साथ प्रतिक्रिया

खादिरारिष्ट की जारी दवाई के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है। इस विषय पर डॉक्टर से उचित सलाह लेंवे।

पढ़िये: Lakshadi Guggul in Hindi | Kutajarishta in Hindi

Khadirarishta FAQ in Hindi

1) खादिरारिष्ट को कैसे सहेज कर स्टोर किया जाना चाहिए?

उत्तर: खादिरारिष्ट को ठंडी और सूखी जगह पर संग्रहीत करें और इसे सीधी धूप से बचाने की सलाह भी दी जाती हैं। इसे घर के पालतू जानवरों और बच्चों की पहुँच से दूर ऊँची जगह पर स्टोर करें।

2) क्या खादिरारिष्ट एल्कोहोल के साथ सुरक्षित हैं?

उत्तर: इस दवा को एल्कोहोल के साथ लेने से परहेज किया जाना चाहिए। इन दोनों के मिलन से स्वास्थ्य हानि का खतरा रहता हैं। इस विषय में डॉक्टर की निगरानी आवश्यक हैं।

3) क्या खादिरारिष्ट गर्भ के लिए सुरक्षित हैं?

उत्तर: गर्भावस्था में खादिरारिष्ट समेत अधिकतर दवा व औषधि से अतिसंवेदनशीलता रहती है। इसलिए डॉक्टर से निजी सलाह लेने के बाद ही कोई फैसला करें।

4) क्या खादिरारिष्ट के तुरुंत बाद ड्राइविंग करना सुरक्षित हैं?

उत्तर: हां, इस दवा की खुराक के बाद गाड़ी चलाना पूर्णतया सुरक्षित हैं। अगर शारीरिक असंतुलन की समस्या ज्यादा हैं, तो शरीर को पूरी तरह आराम दिया जाना उचित हैं।

5) खादिरारिष्ट को भोजन के आधार पर कब किया जाना उत्तम हैं?

उत्तर: इस दवा को अधिकतर भोजन के बाद लेने की सलाह दी जाती हैं। भूखे पेट इस दवा के सेवन से पेट में जलन हो सकती हैं।

6) क्या खादिरारिष्ट भारत में लीगल हैं?

उत्तर: हां, यह दवा भारत में पूर्णतया लीगल हैं और आसानी से अधिकतर आयुर्वेदिक स्टोर पर उपलब्ध होती हैं।

पढ़िये: आरोग्यवर्धिनी वटी | कुमारी आसव

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *